Home University Colleges 70 फीसदी निजी स्कूलों के प्रबंधक बोले- 'स्कूल बंद होने से हालत...

70 फीसदी निजी स्कूलों के प्रबंधक बोले- ‘स्कूल बंद होने से हालत हुई खस्ताहाल’, डीएम को पत्र लिखकर कहीं ये बात!

स्कूलों को 23 अप्रैल तक बंद रखने के फैसले का निजी स्कूल प्रबंधकों और अभिभावकों ने कड़ा विरोध किया है। मंडी और हमीरपुर के स्कूल प्रबंधकों ने एक सुर में कहा कि कोरोना को भयावह कहकर स्कूल बंद करने का सिलसिला चल रहा है, लेकिन चुनावों में कोरोना कहां भाग जाता है।

बता दें निजी स्कूल बंद होने के चलते जिले के करीब 60 फीसद प्रबंधक कंगाली के कगार पर आ गए हैं। उन्होंने कानपुर प्राइवेट स्कूल्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों को जब अपनी स्थिति बताई, तो पदाधिकारियों ने डीएम को पत्र भेजकर स्कूलों के संचालन की मांग की है। पदाधिकारियों का कहना है, जब सारे प्रतिष्ठान खुले हैं, तो एक निश्चित समय सीमा के लिए स्कूल भी खोले जा सकते हैं। प्रबंधकों ने कहा कि पिछले साल कोरोना महामारी के चलते कई माह तक स्कूल बंद रहे थे, जिस वजह से सभी बच्चों की फीस जमा नहीं हो पाई थी। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के चलते कमोबेश वैसी स्थिति इस साल भी बन रही है। अगर इस साल फीस न मिली तो स्कूलों को बंद ही करना पड़ेगा।

बेचना चाहते हैं स्कूल, पर नहीं बेच सकते : कई प्रबंधकों ने तो यहां तक कह दिया है, कि वह अपना स्कूल बेचना चाहते हैं पर नहीं बेच सकते। इसका कारण यह है, कि उन्होंने जितना पैसा स्कूल में लगा दिया उतना पैसा नहीं मिल पाएगा। इसके अलावा स्कूली वाहन भी खड़े हैं। न तो चालक को पैसा दिया जा सकता है, न क्लीनर को।

Most Popular

Notifications    OK No thanks